स्वास्थ्य वर्धक खाना बनाने के कमाल के कुकिंग टिप्स और ट्रिक्स

1
3479

१. भारतीय भोजन को पारंपरिक तरीके से बनाने की बजाय नई सोच से इस तरीके से बनाएं कि उसका टेस्ट तो बरकरार रहे, लेकिन तेल व घी का उपयोग कम ही हो।

२. गे्रवी तैयार करते समय भी प्याज या मूंगफली केदाने या फिर नारियल का उपयोग करने की बजाय भुने हुए बेसन का प्रयोग करें, क्योंकि नारियल वगैरह में सैचुरेटेड फैट ज्यादा होता है।

3. अगर सूखी सब्जी खानी हो, तो तडका देने के बाद सिर्फ आधा कप पानी डालकर सब्जी को कुकर में डालकर एक सीटी लगा लें।

४. चावल को पतीले में ज्यादा पानी के साथ पकाएं और बाद में उसका मांड फेंक दें, या सूती कपडों में कलफ दें सकती हैं। इससे चावल की कैलोरिज कम होती है। कबाब या कोफ्तों को डीप फ्राई ना करें, उन्हें अवन में पकाएं या बडी छलनी पर फैलाकर स्टीम करें।

५. सब्जियाँ ज्यादातर ग्रेवीवाली ही बनाएं, ताकि तेल कम इस्तेमाल हो और पोषक तžव भी बने रहें।

६. सब्जियों को काटने के बाद ना धोएं, इससे पानी में घुलनेवाले विटामिन्स नष्ट हो जाते हैं। खाने को बार-बार गर्म ना करें, उसके पोष्क तव कम हो जाते हैं।

इन्हे भी देखिए
गुजराती खट्टा ढोकला

७. एक ही सब्जी बनाने की बजाय मिक्स सब्जियाँ व मिक्स दालें बनाएं। पनीर की जगह सोयाबीन बडी का उपयोग करें।

८. चटपटा, मसालेदार दाल तडका बनाने के लिए लहसुन, टमाटर और अदरक को दाल के साथ ही कुकर में पका लें और अंत में नाम मात्र के तेल में राई, जीरा, साबुत लाल मिर्च का तडका देकर सर्व करें, हरी धनिया से गार्निश भी कर सकती हैं।

९. यदि कुछ तलना हो, तो आवश्यकतानुसार ही तेल लें। तलने के बाद बचे हुए तेल का ही बार-बार उपयोग करने पर तेल गाढा हो जाता है और उससे कोलेस्ट्रॉल जमने का खतरा बढ जाता है।

इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य व सटीक हैं तथा इन्हें अपनाने से अपेक्षित परिणाम मिलेगा। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।
Loading...

1 COMMENT

LEAVE A REPLY