60 साल बाद दिवाली पर बन रहा दुर्लभ संयोग,इस योग में करें पूजा

0 790

दीपावली का त्यौहार हिंदू धर्म का खास पर्व माना जाता है। इस दिन धन की देवी लक्ष्मी व देवता कुबेर की विशेष रुप से पूजा की जाती है। हर साल कार्तिक मास की अमावस्या को दीपावली मानाते हैं, इस साल बुधवार, 7 नवंबर को मनाई जाएगी।

इस दिन विधि पूर्वक लक्ष्मी जी की पूजा करने से वे प्रसन्न होकर घर में सुख-समृद्धि व धन वृद्धि का आशीर्वाद देती हैं। इस बार दिवाली बहुत ही खास होगी। पंडित रमाकांत मिश्रा जी के अनुसार इस साल दीपावली पर 60 साल बाद बहुत ही शुभ संयोग बन रहा है।

इस संयोग में तीन ग्रह गुरु, शनि और मंगल मिलकर एक बेहद दुर्लभ योग बना रहे हैं। जिसके बनने से दीपावली के दिन किया हुआ हर कार्य बहुत ही लाभकारी साबित होगा। आइए  जानते हैं विशेष संयोग को लेकर खआस जानकारी…

सन् 1959 में बना था ऐसा शुभ योग

पंडित रमाकांत जी के मुताबिक ऐसा शुभ व दुर्लभ संयोग 60 साल पहले सन् 1959 में बना था, जब गुरु वृश्चिक, शनि धनु राशि और मंगल कुंभ राशि में था। इस साल भी दिवाली पर गुरु ग्रह वृश्चिक राशि में है जिसका स्वामी मंगल ग्रह है, वहीं मंगल ग्रह शनि के स्वामित्व वाली कुंभ राशि में रहेगा और शनि ग्रह गुरु के स्वामित्व वाली राशि धनु में रहेगा।

ये तीनों ग्रह एक-दूसरे की राशि में गोचर कर एक बहुत ही दुर्लभ व लाभकारी योग बना रहे हैं। पंडित जी बताते हैं की इन सभी ग्रहों के बीच शुक्र ग्रह इस समय खुद की राशि तुला में रहेगा। जिसके कारण मालव्य योग बन रहा है, मालव्य योग तब बनता है जब शुक्र स्वयं की राशि से गोचर करता है।

इन योगों के बनने से आप समयावधि में किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत कर सकते हैं। इस दौरान शुरु किये गए कार्यों में निश्चित ही सफलता प्राप्त होती है और धन-धान्य में वृद्धि होती है।

इस साल की दीपावली पर देवी लक्ष्मी को जल्द प्रसन्न किया जा सकेगा, यदि सच्चे दिल और विशेष विधि से पूजा की जाए तो जल्दी शुभ फल प्रदान कर सकती है।

Comments
Loading...