रविसिद्धियोग में सरस्वती पूजा 10 को, वर्षों बाद बन रहा है महासंयोग

0 541

सरस्वति महामाये शुभे कमललोचिनि… विश्वरूपि विशालाक्षि… विद्यां देहि परमेश्वरि… । माघ शुक्ल पंचमी रविवार 10 फरवरी को विद्या की अधिष्ठात्री देवी मां सरस्वती की पूजा होगी। इसी दिन मां सरस्वती का अवतार माना जाता है। सरस्वती ब्रह्म की शक्ति के रूप में भी जानी जाती हैं। नदियों की देवी के रूप में भी इनकी पूजा की जाती है।

इस वर्ष सरस्वती पूजा पर ग्रह-गोचरों का महासंयोग बन रहा है। ज्योतिषाचार्य प्रियेंदू प्रियदर्शी ने पंचांगों के हवाले से बताया कि सरस्वती पूजा पर रविवार, रवि सिद्धियोग,अबूझ नक्षत्र और 10 तारीख का महासंयोग बन रहा है। माघ शुक्ल पंचमी शनिवार नौ फरवरी की दोपहर 12.25 बजे से शुरू होगा जो रविवार 10 फरवरी को दोपहर 2.08 बजे तक है। पूजन के समय अबूझ नक्षत्र का भी संयोग बना है। पूजन का सबसे शुभ मुहुर्त सुबह 6.40 बजे से दोपहर 12.12 बजे तक है।

सरस्वती पूजा पर विद्या आरंभ भी होता है 

ज्योतिषाचार्य पीके युग के मुताबिक सरस्वती पूजा पर मंत्र दीक्षा, नवजात शिशुओं का विद्या आरंभ भी किया जाता है। इस तिथि पर मां सरस्वती के साथ गणेश, लक्ष्मी और पुस्तक-लेखनी की पूजा अति फलदायी मानी जाती है। इसी दिन से फगुआ का गीत ग्रामीण इलाकों में गाए जाने लगते हैं। लोग अबीर-गुलाल भी लगाना शुरू कर देते हैं।

Comments
Loading...