दाल खाने के फायदे , बनाने का सही तरीका और होने वाले अध्भुत लाभ

0 309

—  दाल  साफ करके धूप लगायें और डिब्बे में भरने से पहले डिब्बे में थोड़ी हींग डाल दें। पैकेट वाली दाल को डब्बे में भरने से पहले भी ये ही करें। दाल मे कीड़े नहीं पड़ेंगे।

—  अंकुरित दाल  को अधिक समय तक ताजा रखने के लिए भिगोते समय पानी में चार पांच बूँद नीम्बू का रस डाल दें।

—  किसी भी दाल या साबुत मूँग , मोठ व चने को कीड़ों से बचाने के लिए उस पर तिल्ली या सरसों का तेल लगाकर  रखना चाहिए।

—  दाल से कचौरी , मंगोड़ी या पकौड़ी बनाने के लिए दाल भिगोने पर उसके छिलके निकालते है उन्हें फेंकने की बजाय उन्हें पीसकर आटा मिलाकर पौष्टिक और स्वादिष्ट परोठे बनाये जा सकते है।

—  दाल को पकाने से पहले 15 मिनट के लिए पानी में नमक डालकर उसमें दाल भिगो दें। दाल जल्दी गल जाएगी।

—  जिस समय बीमारी के कारण अन्न से परहेज करना हो तो साबुत मूंग उबालकर पानी छान लें। इसमें स्वाद अनुसार नमक व काली मिर्च डालकर हींग का छौंका लगाकर थोडा थोडा पिला सकते है। यह सुपाच्य होता है और  ताकत देता है।

—  पसीना अधिक आता हो तो मोठ को सेंककर उसका आटा बना लें। एक मुठ्ठी आटे में आधा चम्मच नमक डालकर जहाँ अधिक पसीना आता हो वहाँ मलें। इससे ज्यादा पसीना आना कम हो जायेगा।

—  हिचकी आती हो तो साबुत उड़द  कोयले पर डालकर इसका धुआं सूंघने से हिचकी बंद हो जाती है।

—  उड़द की दाल पचने में भारी होती है किन्तु बहुत शक्तिवर्धक होती है। भीगी हुई उड़द की दाल को पीसकर इसे घी में सेक लें। इसमें आधा चम्मच शहद मिला लें। इसे खा कर ऊपर से मिश्री मिला गुनगुना दूध पी लें। इसका तीन सप्ताह लगातार उपयोग करने से पुरुषों में बल वीर्य की भारी वृद्धि हो जाती है।

—  अरहर  की दाल गर्म और रुक्ष प्रकृति की होती है। यह पेट में गैस पैदा करती है। इसलिए इसे घी का छोंका लगाकर नीम्बू का रस डालकर खाना चाहिए। अरहर कीदाल का पानी पीने से भांग का नशा उतर जाता है।

—  आधा चम्मच मसूर की दाल और आधा चम्मच तरबूज के बीज दूध के साथ पीस कर लगाने से चेचक के दाग धब्बे व गड्डे ठीक हो जाते है।

Comments
Loading...