घर में ही आसानी से पता लगा सकते हैं असली और नकली हीरे का फर्क

0 1,160

डायमंड ज्वेलरी खरीदते वक्त 4 सी यानी कट, क्लैरिटी, कैरेट, कलर का ध्यान रखें और ऑथेंटिसिटी सर्टिफिकेट ज़रूर जांचे। इस सर्टिफइकेट पर स्टैम्प और हस्ताक्षर जरूर होने चाहिए। आईआईजी और जीआईए सर्टिफिकेट का महत्व है। बिना बिल के कभी भी ज्वेलरी न लें।

डायमंड की विश्वसनीयता की जांच करा सकते हैं। आईआईजी, जीआईए या सरकारी लैब में इसका टेस्ट मुमकिन है। ऑनलाइन ज्वेलरी खरीदते वक्त भी सर्टिफिकेट और कीमत पर ध्यान दें। इसके लिए आपको हीरे को मुंह के सामने लाना है और भाप निकालनी है जैसे आप कभी कभी अपने चश्‍में के ग्‍लास को साफ करने के लिए करते हैं। अगर हीरे पर भाप जमे तो समझ लीजिए वो नकली है और यदि भाप माइश्‍चर में बदल जाये तो मान लीजिये कि आप असली हीरे के मालिक हैं।

हीरे के कोणों से आरपार देखिए अगर इंद्रधनुष की तरह अलग अलग रंग दिखाई दें तो हीरा असली है, पर अगर कोई रंग ना दिखे और केवल सफेदी दिखे तो समझ लीजिए आप नकली पत्‍थर थामे हुए हैं। हीरे को पानी में डालिए अगर डूब जाये तो असली और तैरने लगे तो नकली।पत्थर को एक पानी के गिलास में डालें और देखें कि क्या वह नीचे डूबता है: अपने उच्च घनत्व की वजह से, एक असली हीरा डूब जाएगा । एक नकली हीरा सतह के शीर्ष पर या गिलास के मध्य में तैरेगा।

हीरा रोशनी का काफी बेहतरीन परावर्तक होता है यानि वो प्रकाश को रिफ्लेक्‍ट कर देता है। अब आप एक अखबार लीजिये और हीरें के आरपार उसे पढ़ने का प्रयास करें अगर अक्षर पढ़ने में आ जाए तो हीरा नकली है और कुछ ना दिखाई दे एक दम सौ टका असली। पत्थर को गर्म करें और देखें कि क्या वह टूटता है या नहीं: संदिग्ध पत्थर को एक लाइटर से 30 सेकंड के लिए एक गर्म करें, और फिर उसे सीधे ठंडे पानी के एक गिलास में डालें।

तेजी से फैलाव और सिकुड़न कांच या क्वार्टज की तरह कमज़ोर सामग्रियों की तन्य शक्ति को अभिभूत करेगा, जो पत्थर को अंदर से चकनाचूर करेगा । असली हीरा काफी मज़बूत होता है और उसे कुछ नहीं होगा।

Comments
Loading...