Best Healthy and Vegetarian Recipes

इस तरीके से बाजरे की रोटी बनाना जान गए तो आप की रोटी ना कभी टूटेगी ना ही फटेगी

0 21,881

- Advertisement -

बाजरे की रोटी मुख्यता पारंपरिक राजस्थानी व्यंजन है। जिसको वह पर गुड़ या गट्टे की सब्जी के साथ लिया जाता है। इसमें बाजरे के आटे को गूंथकर रोटी बनाइ जाती  है। बाजरा सबसे ज्यादा सेहतमंद माना जाता है। 

बाजरे का आटा की सामग्री

  • बाजरे का आटा – 2 कप
  • 1 छोटा- चम्मचहरी मिर्च 
  •  1 बड़ा -चम्मच ताजा हरा धनिया 
  • नमक स्वादअनुसार
  • 1/2 छोटा चम्मच अजवायन 
  • आटा गूंथने के लिये – गरम पानी 

तैयारी का समय : 20 मिनट

खाना बनाने का समय : 30 मिनट

कुल समय :  40 मिनट

विधि

स्टेप 1  सबसे पहले आटा गूंथना होगा

एक बड़े कटोरे में दी गई सभी सामग्री को मिला लें और गर्म पानी से सख्त आटा गूंथ लें।(नोट : आटा को पतला नहीं करना है इससे रोटी बिलकुल भी नहीं बनेगी ) फिर ढक्कन या प्लेट से काम से काम 10 मिनट के लिए ढक दे आप।

स्टेप 2 रोटी बनाएं

रोटी बनाने से पहले दोबार आटे में हलके हाथ से लोच लगाए ताकि वो हल्का सा नरम और चिकना बन जाये। फिर आटे की छोटी छोटी लोई बना ले। 

रोलिंग या कुकिंग

  • पहले आप चकले पर एक मोती प्लास्टिक की शीट रखा दे ताकि आटा चकले से न चिपके और आप को भी बनाने में दिकत न हो। 
  • अब लोई लें और चकले पर बेले , हलक सा सूखा आटा डालते रहे ताकि न चिपक। 
  • अब रोटी को हलके हाथ से उठाते हुये  गर्म तवा पर डाल दे। 
  •  गैस की आँच मध्यम हो और उसे आधा मिनट तक पकाएँ, धीरे-धीरे पलटें रहे।
  • तब तक पकाएं जब तक कि आप की रोटी के किनारों हलके हलके भूरे ना हो ।
  • रोटी के पच जाने के बाद ताज गैस पर करारी कर लें। 
  • आप की बाजरे की रोटी बनकर तैयार, खूब सारा घी लगा कर परोसे। 

 

पोषण संबंधित जानकारी

 

  • ऊर्जा 361 किलो कैलोरी
  • फैट 5.01g
  • कार्बोहाइड्रेट 66.8g
  • शक्कर 0g
  • फाइबर 8.7g
  • मोनोअनसैचुरेटेड वसा 1.006g
  • पॉलीअनसेचुरेटेड वसा 2.413g
  • प्रोटीन 11.92g
  • सोडियम 397mg
  • कोलेस्ट्रॉल 0mg
  • पोटेशियम 284mg

 

बाजरा खाने के स्वास्थ्य लाभ

 

 दिल को स्वस्थ रखता है

 

बाजरा  में पाए जाने वाले मैग्नीशियम और पोटेशियम किसी भी तरह  के दिल के दौरे या स्ट्रोक के जोखिम को कम करने में हेल्प करता है।  

बाजरा  और भी कई प्रकार के पोषक तत्वों से भरपूर है वसा,फाइबर और अन्य। 

 

यह लस मुक्त है

 

 यह ग्लूटेन यानि लस से मुक्त है  जिन को लस से एलर्जी है वो इसका इस्तेमाल खूब शोक से के सकते है। 

 

मधुमेह कंटोल करता है

 

बाजरे में मिठास न होने  के कारन ये मधुमेह के रोगियों के लिए सबसे अच्छ है। फाइबर की मात्रा  भी अधिक होने के कारण खाना धीरे-धीरे पचता है और भुख भी जल्दी नहीं लगती है । ग्लूकोज के स्तर में अचानक से कोई वृद्धि नहीं होती है कंटोल में रहता है । 

 

स्टोर

 

बाजरे की रोटी को आप फ्रीजर में 15 दिन तक स्टोर कर सकते हैं.  बस परोसने से पहले तवे पर थोड़े से तेल डाल कर रोटी को गर्म कर लें क्योकि रोटी टाइट होती है और तवा पर गर्म करना से हलकी नरम हो जाएगी।

 

स्वाद में बदलाव

 

बाजरे की रोटी का स्वाद बढ़ाने के लिए आप उसमे कटी हुई पत्तेदार सब्जियाँ जैसे मेथी मेथी, पालक, बथुआ  या सूखी जड़ी-बूटियाँ (धनिया) भी मिला सकते हैं।

- Advertisement -

बाजरे की रोटी मुख्यता पारंपरिक राजस्थानी व्यंजन है। जिसको वह पर गुड़ या गट्टे की सब्जी के साथ लिया जाता है। इसमें बाजरे के आटे को गूंथकर रोटी बनाइ जाती  है। बाजरा सबसे ज्यादा सेहतमंद माना जाता है। 

 

बाजरे का आटा की सामग्री

 

  • बाजरे का आटा – 2 कप
  • 1 छोटा- चम्मचहरी मिर्च 
  •  1 बड़ा -चम्मच ताजा हरा धनिया 
  • नमक स्वादअनुसार
  • 1/2 छोटा चम्मच अजवायन 
  • आटा गूंथने के लिये – गरम पानी 

 

तैयारी का समय : 20 मिनट

खाना बनाने का समय : 30 मिनट

कुल समय :  40 मिनट

 

विधि

 

स्टेप 1  सबसे पहले आटा गूंथना होगा

 

 एक बड़े कटोरे में दी गई सभी सामग्री को मिला लें और गर्म पानी से सख्त आटा गूंथ लें।(नोट : आटा को पतला नहीं करना है इससे रोटी बिलकुल भी नहीं बनेगी ) फिर ढक्कन या प्लेट से काम से काम 10 मिनट के लिए ढक दे आप।

 

स्टेप 2 रोटी बनाएं

 

रोटी बनाने से पहले दोबार आटे में हलके हाथ से लोच लगाए ताकि वो हल्का सा नरम और चिकना बन जाये। फिर आटे की छोटी छोटी लोई बना ले। 

 

रोलिंग या कुकिंग

 

  • पहले आप चकले पर एक मोती प्लास्टिक की शीट रखा दे ताकि आटा चकले से न चिपके और आप को भी बनाने में दिकत न हो। 
  • अब लोई लें और चकले पर बेले , हलक सा सूखा आटा डालते रहे ताकि न चिपक। 
  • अब रोटी को हलके हाथ से उठाते हुये  गर्म तवा पर डाल दे। 
  •  गैस की आँच मध्यम हो और उसे आधा मिनट तक पकाएँ, धीरे-धीरे पलटें रहे।
  • तब तक पकाएं जब तक कि आप की रोटी के किनारों हलके हलके भूरे ना हो ।
  • रोटी के पच जाने के बाद ताज गैस पर करारी कर लें। 
  • आप की बाजरे की रोटी बनकर तैयार, खूब सारा घी लगा कर परोसे। 

 

पोषण संबंधित जानकारी

 

  • ऊर्जा 361 किलो कैलोरी
  • फैट 5.01g
  • कार्बोहाइड्रेट 66.8g
  • शक्कर 0g
  • फाइबर 8.7g
  • मोनोअनसैचुरेटेड वसा 1.006g
  • पॉलीअनसेचुरेटेड वसा 2.413g
  • प्रोटीन 11.92g
  • सोडियम 397mg
  • कोलेस्ट्रॉल 0mg
  • पोटेशियम 284mg

 

बाजरा खाने के स्वास्थ्य लाभ

 

 दिल को स्वस्थ रखता है

 

बाजरा  में पाए जाने वाले मैग्नीशियम और पोटेशियम किसी भी तरह  के दिल के दौरे या स्ट्रोक के जोखिम को कम करने में हेल्प करता है।  

बाजरा  और भी कई प्रकार के पोषक तत्वों से भरपूर है वसा,फाइबर और अन्य। 

 

यह लस मुक्त है

 

 यह ग्लूटेन यानि लस से मुक्त है  जिन को लस से एलर्जी है वो इसका इस्तेमाल खूब शोक से के सकते है। 

 

मधुमेह कंटोल करता है

 

बाजरे में मिठास न होने  के कारन ये मधुमेह के रोगियों के लिए सबसे अच्छ है। फाइबर की मात्रा  भी अधिक होने के कारण खाना धीरे-धीरे पचता है और भुख भी जल्दी नहीं लगती है । ग्लूकोज के स्तर में अचानक से कोई वृद्धि नहीं होती है कंटोल में रहता है । 

स्टोर

 

बाजरे की रोटी को आप फ्रीजर में 15 दिन तक स्टोर कर सकते हैं.  बस परोसने से पहले तवे पर थोड़े से तेल डाल कर रोटी को गर्म कर लें क्योकि रोटी टाइट होती है और तवा पर गर्म करना से हलकी नरम हो जाएगी।

 

स्वाद में बदलाव

 

बाजरे की रोटी का स्वाद बढ़ाने के लिए आप उसमे कटी हुई पत्तेदार सब्जियाँ जैसे मेथी मेथी, पालक, बथुआ  या सूखी जड़ी-बूटियाँ (धनिया) भी मिला सकते हैं।

- Advertisement -

Now Read Recipes in English Also Click Here

Leave A Reply

Your email address will not be published.