90% लोग नहीं जानते हल्दी को इस्तेमाल करने का सही तरीका ,आपको बता रहें हैं हल्दी लेने का सही तरीका ?

0 28,094

हल्‍दी का स्‍वाद कड़वा होता है और कभी-कभी इसका इस्‍तेमाल खाने को पीला रंग देने के लिए भी किया जाता है। डिब्‍बाबंद, बेक और डेयरी उत्‍पादों एवं जूस में भी हल्‍दी का प्रयोग किया जाता है। खाद्य पदार्थों को हल्‍दी की पत्तियों में लपेटकर भी पकाया जाता है। इन पत्तियों से खाने में एक अलग स्‍वाद आ जाता है। हल्‍दी एक चमत्‍कारिक मसाला है लेकिन दूध के साथ लेने पर हल्‍दी के गुण दोगुने हो जाते हैं। हल्‍दी वसा में घुलनशील करक्‍यूमिन नामक रसायनिक तत्‍व से बनती है।दुनिया में भारत हल्दी का सबसे बड़ा उत्पादक, उपभोक्ता और निर्यातक है। भारत में पैदा की गई हल्‍दी को सबसे ज्‍यादा बेहतरीन माना जाता है क्‍योंकि इसमें करक्‍यूमिन की मात्रा अधिक होती है। विश्व में हल्दी के कुल उत्पादन में भारत की हिस्सेदारी 80% है।

हल्दी का दूध कैसे बनाते हैं

बहुत से लोग अपने दैनिक आहार में हल्‍दी वाला दूध शामिल हैं, लेकिन उनमें से सभी नहीं जानते कि हल्‍दी वाले दूध का सेवन कैसे करना है, कब करना है और कितनी मात्रा में करना है. हल्‍दी वाले दूध का पूरा फायदा आप तभी उठा सकते हैं जब आप इससे जुड़ी बातों को सही तरह से जानते हैं और इसे सही मात्रा में और सही समय पर लेते हैं.

दूध में एक चुटकी हल्दी डालने से यह आपकी सेहत को कई तरह के फायदे पहुंचाता है. लेकिन अगर आप इसे रात के समय में ले रहे हैं तो इसमें काली मिर्च या जायफल भी शामिल कर सकते हैं. ऐसा करने से यह सुनिश्चित होता है कि रात को हल्दी वाला दूध पीने से आपको खांसी या जुकाम नहीं होता है. वास्तव में, यह पेय ऐसे संक्रमणों को रोकने में मदद कर सकता है. इसके अलावा, सोते समय दूध पीने से वजन कम करने में भी मदद मिल सकती है क्योंकि हल्दी और दूध आवश्यक फैटी एसिड, एंटीऑक्सिडेंट और विरोधी भड़काऊ एजेंटों का एक शक्तिशाली संयोजन है.

हल्दी वाला दूध कब और कैसे पीना चाहिए या क्‍या सुबह हल्‍दी दूध पीना चाहिए 

हल्‍दी दूध को अगर आप सुबह लेते हैं तो यह आपको ठीक वैसे ही फायदे देता है जैसे इसे रात में पीने पर मिलते हैं. तो इस सवाल का जवाव है हां, आप हल्‍दी दूध सुबह पी सकते हैं. रात के समय हल्‍दी दूध लेने की जो सबसे बड़ी वजह है वह यह है क‍ि यह आपको सोने में भी मदद करता है. और क्‍योंकि दूध आपको नींद दिला सकता है इसलिए यह सुबह के समय नहीं लेते. लेक‍िन जहां तक इसके गुणों की बात है यह सुबह और शाम किसी भी समय लेने पर एकसे होते हैं.

हल्‍दी दूध में कितनी हल्‍दी डालनी चाहिए 

अगर आप काफी मात्रा में हल्‍दी खाते हैं, तो यह अम्लता और सूजन को जन्म दे सकता है. हालांकि, दूध के साथ एक चुटकी या मसाले के रूप में, जब हर दिन सब्ज़ियां और दाल पकाते हैं, पूरी तरह से सुरक्षित है.

हल्दी वाला दूध के नुकसान

अनेक शोध में यह पता चला है कि हल्दी का अधिक प्रयोग करने से त्वचा में रूखापन आता है और इससे त्वचा में खुजली भी उत्पन्न हो सकती है। अर्थात इसके अधिक सेवन से बचना चाहिए।

कुछ लोगों को मसालों से एलर्जी होती है। ऐसे में उन्हें हल्दी का प्रयोग भी नहीं करना चाहिए। हल्दी वाला दूध एलर्जी को और भी बढ़ा सकता है।

लीवर की समस्याओं से ग्रसित लोगों को हल्दी वाला दूध पीने से मना किया जाता है। बहुत से लोगों को रात में सोते समय सिर दर्द की शिकायत होती है, जिसका कारण हल्दी वाला दूध भी हो सकता है।

अनेक गर्भवती महिलाओं द्वारा हल्दी का दूध यह सोचकर पिया जाता है कि इससे गोरा बच्चा पैदा होगा। हालांकि इसके विपरीत हल्दी वाला दूध गर्भाशय को संकुचित करता है और कई बार यह पेट मे ऐंठन का कारण भी बन सकता है।

हल्दी का प्रयोग खून में शुगर की मात्रा को कम करता है। जिन मधुमेह के रोगियों को एनीमिया की शिकायत रहती है, उन्हें इसके सेवन से बचना चाहिए।

ऐसा भी देखा गया है कि हल्दी रोग प्रतिरोधक क्षमता पर विपरीत असर डालती है और उसे कमज़ोर बनाती है।

किसी बड़ी सर्जरी के बाद कुछ दिनों तक हल्दी का सेवन कम कर देना चाहिए क्योंकि हल्दी blood clotting की समस्या पैदा कर देती है। साथ ही bleeding की समस्या से जूझ रहे लोगों को भी हल्दी- दूध का प्रयोग नहीं करना चाहिए।

दूध में हल्दी मिलाकर कैसे पीना चाहिए

हल्दी दूध बनाने के लिए किन चीजों की जरूरत होगी-

  • 1 इंच कच्ची हल्दी का टुकड़ा / 1 चम्मच हल्दी पाउडर
  • दूध का 1 गिलास
  • शहद

आपको क्या करना है-

  • पैन में एक इंच हल्दी के टुकड़े को डालें।
  • अब इसमें दूध को मिलाएं और लगभग 10 से 15 मिनट तक उबालें।
  • यदि आप चाहते हैं, तो आप इसमें शहद की आधी चम्मच भी मिला सकते हैं।
  • अब इसे छान लें और एक गिलास में डाल लें।
  • इस पेय को गरमा-गर्म ही पिएं।

हल्दी वाला पानी पीने के फायदे

शरीर को डिटॉक्स हल्दी वाला पानी करता है। इसके अलावा बैक्टीरिया और कीटाणु शरीर में होते हैं जिन्हें यह पानी खत्म करता है। हल्दी वाला पानी पीने से कई बीमारियां शरीर से दूर रहती हैं। चलिए जानते हैं हल्दी वाले पानी पीने के फायदों के बारे में-

एक गिलास हल्दी वाले पानी को अगर आप सुबह पीते हैं तो इससे आपको पाचन तंत्र भी अच्छा होगा और खाना भी आसानी से पचेगा।

कहते हैं कि हल्दी वाले पानी को सुबह पीने से विषाक्त पदार्थ शरीर में से बाहर निकल जाते हैं साथ ही यह पानी शरीर के मेटाबॉलिज्म को भी बढ़ाता है। हल्दी वाले पानी को आप रोजाना पीते हैं तो आपका वजन भी आसानी से कम हो जाएगा। यह पानी आसानी से शरीर के एक्सट्रा फैट को बर्न करता है।

करक्यूमिन हल्दी में पाया जाता है जो ब्रेन फंक्‍शन में फायदेमंद होता है। यह आपकी याददाशत को भी तेज करता है। अगर आप हल्दी वाला पानी रोजाना पीते हैं तो इससे आपका दिमाग तेज होता है। इतना ही नहीं एकाग्रता के स्तर पर भी सुधार होता है।

लीवर में विषाक्त पदार्थ होते हैं जिन्हें शरीर से निकालने में मदद हल्दी का पानी करता है। साथ ही फिर से जीवंत भी हल्दी का पानी कोशिकाओं को करता है। लीवर के फंक्‍शन को ठीक से चलाने में मदद करता है।

हल्दी वाली चाय भी बनती है। अदरक, शहद और नींबू हल्दी वाली चाय में मिलाकर आप पी सकते हैं। खांसी, सर्दी और जुकाम की परेशानियों से यह चाय आपको बचाती है। इतना ही नहीं हल्दी वाली चाय से बलगम भी दूर हो जाती है।

हल्दी वाला पानी अर्थराइटिस और जोड़ों के दर्द में भी मददगार है। जिन लोगों को यह परेशानी है वह रोजाना हल्दी वाला पानी जरूर पीएं। दर्द और सूजन में हल्दी वाला पानी राहत देगा। सूजन,शरीर में दर्द और जोड़ों के दर्द को करक्यूमिन हल्दी में पाया जाता है वह कम करता है। 1 कप गुनगुने दूध में थोड़ा सा गुड़ और एक चुटकी कच्ची हल्दी मिला लें और इसका सेवन रोज करें। अर्थराइटिस के दर्द में भी यह दूध पीने से आपको आराम मिलेगा।

सोने से पहले हल्दी दूध लाभ

दूध हमारे शरीर के लिए बेहद ही फायदेमंद होता है. दूध जहां कैल्शियम से भरपूर होता है वहीं दूसरी तरफ हल्दी में एंटीबायोटिक होता है. ऐसे में दोनों  को एक साथ सेवन में लिया जाए तो इसके फायदे भी दुगने होते हैं. जी हाँ, आज हम आपको हल्दी वाले दूध के ऐसे फायदों बताये जिसे जानकर आप इसे पीने से खुद को रोक नहीं पायेगें. इससे आपकी कई तरह की परेशानियां दूर हो जाएँगी.

सांस संबंधी समस्याओं में लाभकारी हल्दी में एंटी-माइक्रोबियल गुण होते है, इसलिए इसे गर्म दूध के साथ लेने से दमा, ब्रोंकाइटिस, फेफड़ों में कफ और साइनस जैसी समस्याओं में आराम होता है. साथ ही यह बैक्टीरियल और वायरल संक्रमणों से लड़ने में मदद करता है.

इसके अलावा हल्दी वाले दूध को पीने से शरीर में जमी अतिरिक्त चर्बी घटती है. इसमें मौजूद कैल्शियम और मिनिरल और अन्य पोषक तत्व वजन घटाने में मदगार होते है.

दूध में कैल्शियम और हल्दी में एंटीऑक्सीडेंट की मौजूदगी के कारण हल्दी वाला दूध पीने से हडि्डयां मजबूत होती है और साथ ही शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है. इतना ही नहीं अगर गहरी नींद चाहते हैं सोने के आधे घंटे पहले हल्दी का दूध पी लें.

हल्दी वाले दूध को पीने से हड्डियों में होने वाले नुकसान और ऑस्टियोपोरेसिस की समस्या में कमी आती है. वहीं पाचन संबंधी समस्याओं में लाभकारी हल्दी वाला दूध एक शक्तिशाली एंटी-सेप्टिक होता है. यह आंतों को स्वस्थ बनाने के साथ पेट के अल्सर और कोलाइटिस के उपचार में भी मदद करता है. इसके सेवन से पाचन बेहतर होता है और अल्सर, डायरिया और अपच की समस्या नहीं होती है.

दर्द कम करें हल्दी वाले दूध के सेवन से गठिया का निदान होता हैं. साथ ही इसका रियूमेटॉइड गठिया के कारण होने वाली सूजन के उपचार के लिये प्रयोग किया जाता है. यह जोड़ो और मांसपेशियों को लचीला बनाता है जिससे दर्द कम हो जाता है.

दूध हल्दी और शहद के फायदे

  • तनाव और अवसाद पीछा नहीं छोड़ रहा, तो गर्म दूध में शहद मिलाकर पीना शुरू कर दें। ये तंत्रिका कोशिकाओं और तंत्रिका तंत्र को आराम पहुंचाने का काम करता है।
  • रात में नींद टूट जाती है या नींद ना आने की समस्या से ग्रस्त हैं, तो डॉक्टर से मिलें। साथ ही सोने से एक घंटे पहले रात में गर्म दूध में शहद मिलाकर पिएं।
  • पाचन क्रिया को बेहतर बनाता है। गर्म दूध में शहद का सेवन करना फायदेमंद होता है। इससे कब्ज की समस्या से आप बचे रहते हैं।
  • हड्ड‍ियों को मजबूत बनाए रखने के लिए भी दूध के साथ शहद का सेवन करना फायदेमंद होता है। हड्डियों में अगर दर्द है या कोई तकलीफ है, तो उसकी भी भरपाई होती रहती है।
  • शारीरिक और मानसिक क्षमता में वृद्धि करने के लिए भी शहद को गर्म दूध में डालकर पी सकते हैं।

हल्दी के साइड इफेक्ट

एक ओर जहां हल्दी स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है वहीं इसके कुछ साइड-इफेक्ट भी हैं. हालांकि हल्दी तभी नुकसान करती है जब वो बहुत अधिक मात्रा में ली जाए. हल्दी के फायदे जानने के साथ ही आपको इसके नुकसान भी पता होना बहुत जरूरी है:

गॉल ब्लेडर/पित्ताशय में समस्या
अगर आपको पित्ताशय से जुड़ी कोई समस्या है तो हल्दी वाला दूध आपकी इस समस्या को और बढ़ा देगा. अगर आपकी पित्त की थैली में स्टोन है तो आपको हल्दी वाला दूध नहीं पीना चाहिए.

ब्लीडिंग प्रॉब्लम
अगर आपको ब्लीडिंग प्रॉब्लम है तो हल्दी वाला दूध आपको नुकसान पहुंचा सकता है. ये ब्लड क्लॉटिंग की प्रक्रिया को कम कर देता है जिससे ब्लीडिंग की समया और अधिक बढ़ सकती है.

मधुमेह की स्थिति में
हल्दी में एक रासायनिक पदार्थ करक्यूमिन पाया जाता है. जो ब्लड शुगर को प्रभवित करता है. ऐसे में अगर आपको मधुमेह है तो हल्दी वाला दूध पीने से परहेज करना ही बेहतर होगा.

नपुंसकता का कारण
हल्दी, टेस्टोस्टेरॉन के स्तर को कम कर देती हैं. इससे स्पर्म की सक्रियता में कमी आ जाती है. अगर आप अपनी फैमिली प्लान कर रहे हैं तो कोशिश कीजिए कि हल्दी का सेवन संयमित रूप से करें.

4.2/5 (5 Reviews)

Leave A Reply

Your email address will not be published.